360-degree feedback क्या है?

किसी भी कंपनी में अपने employees का आंकलन या feedback (फीडबैक) देने के लिए 360-degree feedback का प्रयोग किया जाता है! ताकि उन्हें अपने performance में प्रोत्साहन (appraisal) मिल सके! चलिए जानते है 360-degree feedback क्या है? और यह कितना अलग है ?

360-degree Feedback क्या है? 360 -degree का मतलब ही होता है पूरा, सम्पूर्ण ! इस प्रक्रिया में employee के सीनियर या मेनेजर से ही फीडबैक नहीं लिया जाता ! उसके सहकर्मियों से भी लिया जाता है ! उसके suppliers, customers से भी feedback लिया जाता है ! यहाँ तक कि employee के अंतर्गत आने वाले अन्य employees भी feedback देते है!

इन सभी से लिये गये feedback से employee के performance का आंकलन, ज्यादा सटीक होता है! 360-degree feedback की एक विशेषता यह भी है कि यह employee से गोपनीय रखा जाता है! सहकर्मियों ने क्या feedback दिया, suppliers,customers ने क्या feedback दिया, employee को इसके बारे में जानकारी नहीं दी जाती ! यहाँ तक कि इससे appraisal पर क्या फर्क पड़ेगा इसका कोई अनुमान उसे नहीं होता है !

360-degree feedback
360-degree feedback

Traditional Approach (परंपरागत पद्धति)

इससे अलग Traditional Approach में मेनेजर ही employee के performance का आंकलन करता है! जैसे employee के customers कितने है, क्या वह टारगेट पूरा कर पाया ! इन सब के आधार पर ही वह employee का appraisal निर्धारित करता है! यदि employee का फीडबैक सकारात्मक रहा तो उसे अच्छी रेटिंग मिलती है जिससे पदोन्नति भी होती है और नकारात्मक रहने पर कंपनी से छुट्टी भी ! Employee को यह नहीं बताया जाता की उसमे क्या कमी है, वह कैसे उसे दूर कर सकता है! परन्तु इससे कंपनी को भी नुकसान होता है!

click here know more

360-degree feedback के फायदे

360-degree feedback से employee के बारे में खूबियों के साथ-साथ खामियां भी पता चलती है! जैसे किसी employee के ग्राहक तो बहुत है परन्तु ग्राहकों की संतुष्टि नहीं है ! जांचकर्ता इस कमी को दूर करने के लिए अपने employee को सुझाव देता है जिससे ये कमिया आसानी से दूर की जाती है !

Employee को भी पता चलता है कि वह किस क्षेत्र में कमी रखता है ! आगे वो अपनी गलती सुधारता है, जिससे उसका भी विकास होता है !

इसके अलावा appraisal में पारदर्शिता भी आती है! चूँकि यह लगभग सभी से लिया जाता है तो अन्य कोई employee इस पर आपत्ति नहीं दे सकता !

360-degree feedback के नुकसान

इसके कुछ नुकसान भी होते है ! जैसे company के employees को जब यह पता चलता है कि 360-degree feedback होने वाला है तो उनके बीच होड़ सी शुरू हो जाती ! वे अपने से किसी को आगे निकलने नहीं देना चाहते ! इसलिए वो negative feedback देते है ताकि सहकर्मी की रेटिंग कम हो जाये !

इसके अलावा यह बहुत धीमी प्रक्रिया है क्योंकि इसमें लगभग सभी से feedback लिया जाता है! कभी-कभी तो जांचकर्ता, employees को पता भी नहीं चलने देता कि feedback लिया जा रहा है ! जिससे यह प्रक्रिया और धीमी पड़ जाती है !

प्रक्रिया कैसे की जाती है ?

यह feedback लेने के लिए जांचकर्ता कोई भी माध्यम चुन सकता है ! मौखिक हो, इलेक्ट्रॉनिक्स या लिखित हो किसी भी प्रकार से feedback लिया जा सकता है! अधिकतर feedback लिखित ही लिए जाते है क्योकि यह एक गोपनीय प्रक्रिया है! अगर feedback देने वाले का नाम ही उजागर हो जाये तो पारदर्शिता रहेगी ही नहीं ! कभी-कभी तो feedback देने वाले को भी नहीं पता चल पता कि यह प्रक्रिया चल रही है!

जांचकर्ता इन सभी जानकारियों को एकत्रित कर employee की दक्षता का आंकलन करता है! इसलिए 360-degree feedback ज्यादा स्पष्ट एवं पारदर्शी प्रक्रिया है! आजकल हर कंपनी में पुरानी पद्धति को छोड़कर feedback की नयी पद्धति को अपनाया जा रहा है ! इससे ना केवल employee का विकास होता है , साथ में कंपनी का भी विकास होता है !

मैं प्रमीत शर्मा हूं। मुझे आपकी सभी पसंदीदा हस्तियों के बारे में लेख लिखना अच्छा लगता है! कृपया मुझसे संपर्क करें यदि आप कुछ सुझाव देना चाहते हैं या सिर्फ नमस्ते कहना चाहते हैं!

Leave a Comment